April 15, 2024

CIGARETTE TAX सिगरेट पर टैक्स बढ़ाने से क्या फायदा ?

सरकार ने सिगरेट पर 16 फीसदी ड्यूटी बढ़ा दी है। इससे 10 सिगरेट वाले पैकेट की कीमत 5 से 10 रुपए तक बढ़ सकती है। विश्व स्वास्थ्य संगठन का मानना है कि सिगरेट-तंबाकू की लत से छुटकारा पाना मुश्किल है, लेकिन टैक्स बढ़ाकर ऐसा किया जा सकता है।

वैधानिक चेतावनी: सिगरेट पीना स्वास्थ्य के लिए हानिकारक है। लेकिन अब सिगरेट पीना सेहत के लिए ही नहीं बल्कि आपकी जेब के लिए भी हानिकारक हो सकता है। क्योंकि सरकार ने सिगरेट पर ड्यूटी बढ़ा दी है

वित्त मंत्री निर्मला सीतारमण ने पिछले हफ्ते पेश बजट में सिगरेट पर ड्यूटी 16 फीसदी बढ़ाने का ऐलान किया था। पान-मसाला, बीड़ी-सिगरेट पर राष्ट्रीय आपदा आकस्मिक शुल्क यानी एनसीसीडी लगाई जाती है। तीन साल में यह पहली बार है जब एनसीसीडी को बढ़ाया गया है। इसे आखिरी बार 2020 के बजट में बढ़ाया गया था।

इस बार इस ड्यूटी में 16 फीसदी की बढ़ोतरी की गई है और इस वजह से 10 सिगरेट का एक पैकेट कम से कम पांच रुपये महंगा हो सकता है.

इसे 65 एमएम तक लंबी सिगरेट के एक हजार पीस पर 440 रुपए की ड्यूटी समझिए, जो अब बढ़कर 510 रुपए हो गई है। यहां तक कि 65 से 70 एमएम लंबी सिगरेट के एक हजार पीस पर भी ड्यूटी 440 रुपए से बढ़कर 510 रु. वहीं, 70 से 75 एमएम लंबी सिगरेट के एक हजार पीस पर ड्यूटी 545 रुपये से बढ़ाकर 630 रुपये कर दी गई है.

ऐसे में अब अगर आप 10 सिगरेट का पैकेट खरीदते हैं तो आपको 5 से 6 रुपये ज्यादा देने होंगे। अगर 20 सिगरेट का पैकेट है तो यह 10 से 12 रुपये तक महंगा हो सकता है। उदाहरण के तौर पर अगर आप पहले किसी ब्रांड की बड़ी सिगरेट का एक पैकेट 165 रुपये में खरीदते थे, तो अब आपको इसके लिए करीब 175 रुपये या उससे ज्यादा का भुगतान करना पड़ सकता है।

लेकिन यह टैक्स क्यों बढ़ाया गया?

सिगरेट जैसे तम्बाकू उत्पादों पर कर बढ़ाने की सिफारिश की गई है। विश्व स्वास्थ्य संगठन (डब्ल्यूएचओ) के मुताबिक, तंबाकू के कारण दुनिया भर में हर साल 80 लाख लोगों की मौत होती है।

WHO का कहना है कि जो लोग तंबाकू खाना या सिगरेट पीना शुरू कर देते हैं, उनके लिए इसे छोड़ना काफी मुश्किल होता है। ऐसे में इस लत से छुटकारा पाने का सबसे कारगर तरीका यही है कि इस पर इतना टैक्स लगा दिया जाए कि लोग इसे खरीद न सकें.

विश्व स्वास्थ्य संगठन का सुझाव है कि तंबाकू उत्पादों पर खुदरा मूल्य का कम से कम 75 प्रतिशत कर लगाया जाना चाहिए। इससे तंबाकू उत्पाद की कीमत इतनी बढ़ जाएगी कि हर किसी के लिए इसे खरीदना मुश्किल हो जाएगा।

इसे ऐसे समझें कि अगर किसी कंपनी ने अपना मुनाफा निकालकर सिगरेट के एक पैकेट की खुदरा कीमत 100 रुपये रखी और उसके बाद उस पर 75 फीसदी टैक्स लगाया गया तो उसकी एमआरपी 175 रुपये पर पहुंच गई.

पूरी दुनिया में हर साल 80 लाख लोग बेवजह मारे जाते हैं। (फोटो- वाणी गुप्ता/इंडिया टुडे)
भारतीय कितनी सिगरेट पीते हैं?

दुनिया की 18 फीसदी आबादी भारत में रहती है, लेकिन यहां सिर्फ 2 फीसदी सिगरेट की खपत होती है। इसी कारण से भारत में प्रति व्यक्ति सिगरेट की खपत बहुत कम है।

2018 में आई ‘द टोबैको एटलस’ की रिपोर्ट बताती है कि भारत में हर व्यक्ति सालाना औसतन 89 सिगरेट पीता है। वहीं, चीन में हर व्यक्ति एक साल में औसतन 2,043 सिगरेट पीता है।

विश्व स्वास्थ्य संगठन ने पिछले 12 वर्षों में दो बार ‘वैश्विक वयस्क तंबाकू सर्वेक्षण’ किया है। पहला सर्वे 2009-10 और दूसरा 2016-17 में किया गया था। इसमें खुलासा हुआ कि भारत में तंबाकू और सिगरेट या बीड़ी पीने वालों की संख्या में कमी आई है। 2009-10 के सर्वेक्षण से पता चला कि 14 प्रतिशत वयस्क भारतीय सिगरेट या बीड़ी पीते हैं, जो 2016-17 में 11 प्रतिशत से भी कम हो गया।

केंद्र सरकार के आंकड़े भी यही इशारा करते हैं कि भारत में सिगरेट पीने वाले कम हुए हैं। राष्ट्रीय परिवार स्वास्थ्य सर्वेक्षण (एनएफएचएस) के अनुसार, 2015-16 में 13.6 प्रतिशत पुरुषों ने सिगरेट पीने की बात स्वीकार की, जबकि 2019-21 में यह आंकड़ा थोड़ा कम होकर 13.2 प्रतिशत रह गया।

कुल मिलाकर 13 फीसदी भारतीय अब भी सिगरेट पीते हैं। इनमें से आधे वे हैं जो रोजाना पांच से ज्यादा सिगरेट पीते हैं।

सर्वे के मुताबिक सिगरेट पीने को राजी हुए लोगों में 80 फीसदी महिलाओं और 72 फीसदी पुरुषों ने कहा कि वे रोजाना पांच से कम सिगरेट पीते हैं. वहीं, साढ़े सात फीसदी से ज्यादा महिलाएं ऐसी थीं, जो हर दिन 25 या उससे ज्यादा सिगरेट पीने को राजी हुईं। जबकि हर दिन 25 या उससे ज्यादा सिगरेट पीने वाले पुरुषों की संख्या एक फीसदी से भी कम थी.

लेकिन क्या टैक्स बढ़ने से खपत घटती है?

अब तक कई अध्ययनों में यह बात सामने आ चुकी है कि अगर सिगरेट-बीड़ी जैसे तंबाकू उत्पादों पर टैक्स बढ़ा दिया जाए तो खपत भी घट जाती है।

विश्व स्वास्थ्य संगठन की रिपोर्ट में कहा गया है कि तंबाकू उत्पादों पर टैक्स भले ही कम से कम 10 फीसदी बढ़ा दिया जाए, लेकिन इससे खपत में 4 फीसदी की कमी आती है।
ab paphing kitanee mahangee hogee? jaanana-

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *