May 22, 2024

निक्की मर्डर केस के 6 किरदार:किसने रची थी साजिश, कौन था घटना में शामिल, किसने छुपाया था राज?

निक्की हत्याकांड में पुलिस ने साहिल गहलोत के अलावा उसके पिता वीरेंद्र, दो चचेरे भाइयों आशीष व नवीन और दो दोस्तों अमर व लोकेश को भी गिरफ्तार किया है. आरोपी ने कई बार साहिल पर निक्की यादव को छोड़ने और रास्ते से हटाने का दबाव बनाया। आरोपियों ने निक्की यादव से पीछा छुड़ाने के तरीकों पर भी चर्चा की थी। साहिल की शादी से पहले निक्की से पीछा छुड़ाने की साजिश रची जाती है।

निक्की हत्याकांड में एक के बाद एक नए खुलासे हो रहे हैं। इन खुलासों ने केस की पूरी थ्योरी ही बदल दी। पहले आरोपी साहिल गहलोत ने पुलिस पूछताछ में बताया कि उसने अकेले ही पूरे हत्याकांड को अंजाम दिया था. लेकिन जब पुलिस ने दो दिन पहले इस मामले में 5 और आरोपियों को गिरफ्तार किया तो सभी हैरान रह गए. अब निक्की मर्डर केस में साहिल अकेला पात्र नहीं है. पुलिस ने साहिल के पिता, उसके दो भाइयों और दो दोस्तों को भी गिरफ्तार किया है। आइए जानते हैं किस आरोपी ने निक्की के मर्डर में साहिल की मदद की थी।

अब तक किसे गिरफ्तार किया गया है?

पुलिस ने निक्की की हत्या के मामले में साहिल के पिता वीरेंद्र गहलोत, दो चचेरे भाइयों आशीष और नवीन के अलावा दो दोस्तों अमर और लोकेश को भी गिरफ्तार किया है. नवीन उसकी मौसी का बेटा है, जो दिल्ली पुलिस में कांस्टेबल है।

कैरेक्टर नंबर 1- साहिल गहलोत:

निक्की मर्डर केस का मुख्य किरदार साहिल गहलोत है। पहले पुलिस इस मामले में साहिल को ही एकमात्र आरोपी मान रही थी। साहिल गहलोत ने कार में निक्की यादव की गला दबाकर हत्या कर दी। साहिल ने पहले कहा था कि वह निक्की के साथ लिव-इन में रहते थे। लेकिन जांच में सामने आया है कि साहिल ने निक्की से अक्टूबर 2020 में ग्रेटर नोएडा के आर्य समाज मंदिर में शादी की थी। लेकिन साहिल के परिवार को ये रिश्ता मंजूर नहीं था. वे उस पर अरेंज मैरिज करने का दबाव बना रहे थे। वहीं जब निक्की को साहिल की दूसरी शादी के बारे में पता चला तो उसने उसे बेनकाब करने की धमकी दी। इसके बाद साहिल गहलोत ने उसकी हत्या कर दी।

मृतक निक्की व आरोपी साहिल गहलोत

कैरेक्टर नंबर 2- वीरेंद्र गहलोत:

पुलिस के मुताबिक वीरेंद्र गहलोत जानता था कि हत्या उसके बेटे ने की है। दरअसल वीरेंद्र को पता था कि साहिल की शादी निक्की से हुई है। इसके बावजूद वह लगातार साहिल पर दूसरी शादी करने का दबाव बना रहा था। साहिल की सगाई वाले दिन जब निक्की ने उन्हें फोन किया और कहा कि वे वेन्यू पर आकर सबको अपनी शादी के बारे में बताएंगी तो साहिल अपने पापा के पास चला गया. इसके बाद वीरेंद्र ने उसे निक्की के पास जाकर मामला संभालने को कहा। इतना ही नहीं वीरेंद्र ने कहा कि वह यह सब निपटा लें। इतना ही नहीं जब साहिल ने निक्की की हत्या की तो उसने वीरेंद्र को इसकी जानकारी दी। इसके बाद वीरेंद्र शाम को साहिल की शादी में शामिल हुआ।

साहिल के पिता वीरेंद्र गहलोत
चरित्र संख्या 3- नवीन:

नवीन, साहिल की बुआ का बेटा है, जो दिल्ली पुलिस में कांस्टेबल है। नवीन ने ही साहिल को बताया था कि उसे कानून से कैसे बचाया जाए। इतना ही नहीं उनकी सलाह पर साहिल ने निक्की की डेड बॉडी को फ्रिज में रख दिया था।

आरोपी नवीन (साहिल की बुआ का बेटा)
वर्ण संख्या 4, 5 और 6

पुलिस ने इस मामले में साहिल के एक और भाई आशीष को गिरफ्तार किया है. इसके अलावा दो दोस्त अमर और लोकेश भी पुलिस हिरासत में हैं. निक्की की हत्या के दौरान साहिल ने जिस कार का इस्तेमाल किया, वह आशीष की थी। इतना ही नहीं जब साहिल की सगाई पर निक्की को छुड़ाने का प्लान बनाया गया तब भी ये सभी वहां मौजूद थे। इन सभी लोगों को साहिल ने हत्या की जानकारी दी थी। यानी ये सभी हत्या करने और शव को ठिकाने लगाने के बारे में जानते थे।

लोकेश, आशीष और अमर
कैसे रची गई थी हत्या की साजिश?

पुलिस के मुताबिक आरोपी ने कई बार साहिल पर निक्की यादव को छोड़ने और रास्ते से हटाने का दबाव बनाया. वहीं साहिल निक्की के साथ परिवार के रिश्ते को स्वीकार करने में नाकाम रहे। जब साहिल की दूसरी शादी तय हुई तो ये सभी आरोपी उस पर निक्की से पीछा छुड़ाने का दबाव बनाते रहे।

इतना ही नहीं इन सभी आरोपियों ने निक्की यादव से पीछा छुड़ाने के तरीकों पर भी चर्चा की। साहिल की शादी से पहले ही निक्की से पीछा छुड़ाने का प्लान बना लिया था। प्लान के मुताबिक साहिल को निक्की को घुमाने ले जाना था। साहिल को भी लगा कि वह निक्की को टूर पर जाने के लिए मना लेगा और रास्ते में जहां भी मौका मिलेगा वह निक्की को मार डालेगा।

साहिल गहलोत ने शादी से पहले निक्की को मारने की योजना को अंजाम दिया। इसके बाद उसने पिता समेत सभी आरोपियों को जानकारी दी। आरोपियों को यकीन था कि शव को फ्रिज में रखने से दुर्गंध नहीं आएगी। सभी लोग शादी में व्यस्त हैं ऐसे में किसी को कोई शक नहीं होगा. बाद में शव का अंतिम संस्कार किया जाएगा।

इन आरोपों के तहत दर्ज हुए मामले

पुलिस ने साहिल के पिता, भाई नवीन, आशीष और दोस्तों अमर और लोकेश के खिलाफ आईपीसी की धारा 120 बी यानी आपराधिक साजिश, 201 सबूत नष्ट करने, 202 अपराध के बारे में जानकारी नहीं देने और 212 यानी अपराधी को बचाने की कोशिश के तहत मामला दर्ज किया है।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *