April 15, 2024

प्रयागराज: मिट्टी में मिला आलिशान घर, 12 मार्च को था गृह प्रवेश; अतीक अहमद की मदद करने का आरोप

Prayagraj News : आरोप है कि माशुक उद्दीन माफिया अतीक अहमद का करीबी है और अपने गिरोह को फंडिंग करता था। माशुक अहमद ग्राम प्रधान भी रह चुके हैं।

सरकारी अमले ने तीन बुलडोजर और एक पोकलैंड मशीन से करीब ढाई घंटे में इस आलीशान घर को मलबे में तब्दील कर दिया. यह शानदार घर हाल ही में बनाया गया था और गृह प्रवेश समारोह अभी तक नहीं हुआ था।

UP News : प्रयागराज के बहुचर्चित उमेश पाल गोलीकांड मामले में सरकारी अमले की कार्रवाई लगातार जारी है. आज लगातार चौथे दिन अतीक अहमद के करीबियों के घरों को बुलडोजर से तोड़ा जाएगा. शुक्रवार को सरकारी अमले ने माफिया अतीक अहमद के मददगार माने जाने वाले माशुक उद्दीन के आलीशान मकान को बुलडोजर से जमींदोज कर दिया. शहर से करीब 15 किलोमीटर दूर असरौली इलाके में करीब 3 करोड़ रुपये की लागत से 200 वर्ग मीटर के इलाके में यह आलीशान घर बनाया गया है.

माशूक और उसके परिवार के सदस्यों के खिलाफ दो दर्जन से अधिक आपराधिक मामले दर्ज हैं। आरोप है कि माशूक माफिया अतीक अहमद का करीबी है और अपने गैंग को फंडिंग करता था। माशुक अहमद ग्राम प्रधान भी रह चुके हैं। सरकारी अमले ने तीन बुलडोजर और एक पोकलैंड मशीन से करीब ढाई घंटे में इस आलीशान घर को मलबे में तब्दील कर दिया. यह शानदार घर हाल ही में बनाया गया था और गृह प्रवेश समारोह अभी तक नहीं हुआ था। 12 मार्च को गृह प्रवेश की तैयारी थी।

माशुक उद्दीन ने आलीशान घर बनवाया था।
आरोप है कि माशूक ने विकास प्राधिकरण से मंजूरी लिए बिना इस मकान का निर्माण कराया था. इसका नक्शा पास नहीं हुआ। हालांकि नक्शे के लिए आवेदन किया गया था, लेकिन प्राधिकरण ने इसे खारिज कर दिया। प्राधिकरण के अधिकारियों के मुताबिक, पड़ोस में ही वायुसेना का एक ट्रांसमिशन और रडार स्टेशन है। इस वजह से वायुसेना ने इस घर के निर्माण पर आपत्ति जताई थी, जिसके चलते माशूक का आवेदन खारिज कर दिया गया था.

आलीशान घर करीब 3 करोड़ रुपए की लागत से बना है।
शुक्रवार की छुट्टी होने के कारण दोपहर करीब पौने तीन बजे सरकारी अमले को तोडऩे की प्रक्रिया शुरू हुई। कार्यवाही शुरू होने से पहले परिजनों की सरकारी अमले से तीखी नोकझोंक भी हुई, लेकिन लोग ज्यादा देर तक विरोध नहीं कर सके।

दो घंटे में मकान मलबे में तब्दील हो गया।
प्रेमी की बहू व अन्य परिजनों ने प्रशासन पर प्रताड़ित करने का आरोप लगाते हुए मनमानी कार्रवाई करने की बात कही. उन्होंने बताया कि नक्शे के लिए आवेदन किया गया था। इसके बावजूद प्राधिकरण ने बुलडोजर चला दिया।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *