April 15, 2024

मनीष सिसोदिया की ईडी रिमांड पांच दिन और बढ़ी, अब 22 मार्च को कोर्ट में पेश होंगे

दिल्ली के शराब नीति घोटाले में मनी लॉन्ड्रिंग की जांच कर रहे प्रवर्तन निदेशालय ने शुक्रवार को आप नेता मनीष को राउज एवेन्यू कोर्ट में पेश किया।

ईडी ने सिसोदिया की और सात दिन की हिरासत मांगी हालांकि कोर्ट ने 5 दिन की रिमांड मंजूर की है। अब सिसोदिया को 22 मार्च की दोपहर कोर्ट में पेश किया जाएगा दिल्ली के शराब नीति घोटाले में मनी लॉन्ड्रिंग की जांच कर रहे प्रवर्तन निदेशालय ने आप नेता मनीष सिसोदिया की हिरासत पूरी होने के बाद शुक्रवार को राउज एवेन्यू कोर्ट में पेश किया. ईडी ने सिसोदिया की सात दिन की हिरासत मांगी हालांकि कोर्ट ने 5 दिन की रिमांड का आदेश दिया है। अब सिसोदिया को 22 मार्च की दोपहर कोर्ट में पेश किया जाएगा.


वहीं, कोर्ट ने अपने आदेश में मनीष सिसोदिया को अपने घर के खर्च के लिए चेक पर हस्ताक्षर करने और जब्त बैंक खातों का इस्तेमाल करने की भी इजाजत दे दी है. वहीं, आप सांसद संजय सिंह ने आरोप लगाया कि ईडी ने आधारहीन रिमांड लिया है। उन्होंने आगे कहा कि मनीष सिसोदिया के साथ एक आतंकवादी से भी बदतर व्यवहार किया जा रहा है.

इससे पहले सुनवाई के दौरान सिसोदिया के वकील ने दावा किया था कि एजेंसी सिर्फ पूछताछ के नाम पर उन्हें यहां वहां बिठाती है. 7 दिन में सिर्फ 11 घंटे पूछताछ हुई। ईडी ने कोर्ट में कहा कि जांच नाजुक मोड़ पर है, अगर अभी कस्टडी नहीं मिली तो सारी मेहनत बेकार जाएगी. इतना ही नहीं जांच एजेंसी ने कोर्ट को बताया कि सीसीटीवी की निगरानी में मनीष सिसोदिया से पूछताछ की जा रही है. अब 18 और 19 को बयान दर्ज कराने के लिए दो लोगों को बुलाया गया है.

सिसोदिया ने पूछताछ पर सवाल उठाए

उधर, सिसोदिया ने कोर्ट में कहा कि कोई पूछताछ नहीं की जा रही है. मैंने उनसे कहा है कि रात भर बिठाओ, लेकिन कुछ तो पूछो। लेकिन वे कुछ नहीं करते।

सिसोदिया के वकील ने कहा कि एफआईआर के कुछ दिनों के भीतर सीबीआई ने अगस्त 2022 में ईसीआईआर दर्ज की, कंप्यूटर को जब्त कर लिया और उसकी जांच की, अब दूसरी एजेंसी उसी प्रक्रिया को दोहराना चाहती है. सिसोदिया के वकील ने रिमांड बढ़ाने की ईडी की मांग का विरोध किया। सिसोदिया के वकील ने कहा कि क्या ईडी सीबीआई की प्रॉक्सी एजेंसी के तौर पर काम कर रही है. वकील ने कहा कि ईडी को बताना है कि अपराध की प्रक्रिया में क्या हुआ, क्या अपराध नहीं हुआ?

मनीष के वकील ने कहा कि ईडी अपनी रिमांड में जो कुछ भी मांगना चाहता है, वह सीबीआई अपनी रिमांड में पहले ही मांग चुकी है. इसमें कोई नई बात नहीं है। यह सिर्फ ईडी का रिमांड लेने का तरीका है। ईडी ने इस पर आपत्ति जताई और कहा कि जब कोई दूसरी एजेंसी जांच करती है तो वह अपने कानून के दायरे में जांच करती है। इसका अपना पैमाना और जांच का तरीका है।

सिसोदिया अभी सीबीआई और ईडी की हिरासत में हैं।

सिसोदिया को सीबीआई ने 26 फरवरी को दिल्ली की शराब नीति में कथित घोटाले के सिलसिले में गिरफ्तार किया था। कुछ दिनों बाद ईडी ने उन्हें जेल में ही पूछताछ के बाद गिरफ्तार कर लिया था। सिसोदिया 20 मार्च तक न्यायिक हिरासत में हैं। उनकी जमानत याचिका पर 21 मार्च को सुनवाई होनी है।

शराब नीति घोटाला क्या है?

दिल्ली में केजरीवाल सरकार ने 17 नवंबर 2021 को नई आबकारी नीति लागू की थी। दिल्ली सरकार ने नई आबकारी नीति लाकर माफिया राज खत्म करने की दलील दी थी। यह भी दावा किया गया कि इससे सरकार का राजस्व बढ़ेगा। जुलाई 2022 में दिल्ली के तत्कालीन मुख्य सचिव ने एलजी वीके सक्सेना को इस मामले में एक रिपोर्ट सौंपी थी. इसमें आबकारी नीति में गड़बड़ी के साथ ही डिप्टी सीएम मनीष सिसोदिया पर शराब कारोबारियों को अनुचित लाभ देने का भी आरोप लगाया था. इस रिपोर्ट के आधार पर सीबीआई ने 17 अगस्त 2022 को सिसोदिया समेत 15 लोगों के खिलाफ केस दर्ज किया था. ईडी ने 22 अगस्त को एक्साइज पॉलिसी में मनी लॉन्ड्रिंग का केस दर्ज किया था. 6 महीने की जांच के बाद सीबीआई ने सिसोदिया को गिरफ्तार किया।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *