May 22, 2024

LITHIUM IN JAMMU AND KASHMIR लीथियम का ‘खजाना’ बदल देगा भारत की तकदीर, ऐसे उड़ेगी चीन की नींद

जम्मू-कश्मीर में लिथियम के भंडार पाए गए हैं। इसकी कुल क्षमता 59 लाख टन है। इस खोज के बाद चिली और ऑस्ट्रेलिया के बाद भारत लिथियम आयन का भंडार रखने वाला दुनिया का तीसरा देश बन गया है

वर्तमान समय में भारत इस दुर्लभ पृथ्वी तत्व के लिए अन्य देशों पर निर्भर है, लेकिन भण्डार प्राप्त कर शीघ्र ही हम आत्मनिर्भर बन सकते हैं। दुनिया के पश्चिम से लेकर दक्षिण तक के सभी देश धीरे-धीरे अपने परिवहन को ई-वाहनों की ओर स्थानांतरित कर रहे हैं। ऐसे में भारत के जम्मू-कश्मीर में लिथियम का भंडार मिलना किसी जैकपॉट से कम नहीं है। देश में पहली बार लिथियम का भंडार मिला है और यह भी कोई छोटा मोटा भंडार नहीं है। इसकी कुल क्षमता 59 लाख टन है, जो चिली और ऑस्ट्रेलिया के बाद दुनिया में सबसे ज्यादा है।

इस खोज के बाद भारत लिथियम क्षमता के मामले में तीसरे नंबर पर आ गया है। लिथियम एक ऐसी अलौह धातु है, जिसका इस्तेमाल मोबाइल-लैपटॉप, इलेक्ट्रिक-व्हीकल समेत कई चीजों की चार्जेबल बैटरी बनाने में किया जाता है। भारत इस दुर्लभ पृथ्वी तत्व के लिए वर्तमान में अन्य देशों पर निर्भर है।

लिथियम आयात का समीकरण बदलेगा

यह खोज भारत के लिए बेहद जादुई साबित हो सकती है। अभी तक भारत में आवश्यक लिथियम का 96 प्रतिशत आयात किया जाता है। इसके लिए बड़ी मात्रा में विदेशी मुद्रा खर्च करनी पड़ती है। भारत ने वित्त वर्ष 2020-21 में लिथियम आयन बैटरी के आयात पर 8,984 करोड़ रुपए खर्च किए। इसके अगले साल यानी 2021-22 में भारत ने 13,838 करोड़ रुपये की लिथियम आयन बैटरी का आयात किया।

यह खोज भारत को आत्मनिर्भर बनाएगी

भारत सबसे ज्यादा लिथियम चीन और हांगकांग से आयात करता है। साल दर साल आयात की मात्रा और मात्रा में मजबूती से वृद्धि हो रही है। आंकड़ों के मुताबिक भारत 80 फीसदी तक लीथियम चीन से आयात करता है। लेकिन अब देश में पाया जाने वाला लीथियम का भंडार चीन के कुल भंडार से करीब 4 गुना ज्यादा है। इलेक्ट्रिक वाहनों पर फोकस बढ़ाने के बाद से भारत लीथियम आयात करने के मामले में दुनिया में चौथे नंबर पर है।

भारत लिथियम भंडार वाला तीसरा सबसे बड़ा देश बन जाएगा

दुनिया में लिथियम के भंडार की स्थिति देखें तो इस मामले में चिली 93 लाख टन के साथ पहले नंबर पर है। जबकि ऑस्ट्रेलिया 63 लाख टन के साथ दूसरे नंबर पर है। कश्मीर में 59 लाख टन का भंडार पाकर भारत तीसरे नंबर पर आ गया है। अर्जेंटीना 27 मिलियन टन भंडार के साथ चौथे, चीन 2 मिलियन टन भंडार के साथ पांचवें और अमेरिका 1 मिलियन टन भंडार के साथ छठे स्थान पर है।

आत्मनिर्भर बनने के प्रयासों को बल मिला

यह रिजर्व मिलने से पहले ही भारत इस क्षेत्र में आत्मनिर्भर बनने के लिए अर्जेंटीना, चिली, ऑस्ट्रेलिया और बोलीविया जैसे लिथियम समृद्ध देशों की खदानों में हिस्सेदारी खरीदने पर काम कर रहा है. इसके साथ ही अफ्रीकी देश भारत से लिए गए कर्ज के बदले लीथियम समेत कई तरह के खनिजों की खदानें भारत को देने को भी तैयार हैं।

क्या वाकई सस्ती होगी बैटरी?

अगर भारत अपने भंडार से लीथियम का उत्पादन करने में सफल होता है तो ग्राहकों को इसका फायदा मिल सकता है। इससे इलेक्ट्रिक बैटरी सस्ती हो सकती है, जिससे इलेक्ट्रिक कारें और सस्ती होंगी। दरअसल, इलेक्ट्रिक कारों की कीमत का करीब 45 फीसदी हिस्सा बैटरी पैक का होता है। उदाहरण के लिए Nexon EV में लगे बैटरी पैक की कीमत 7 लाख रुपए है, जबकि इसकी कीमत करीब 15 लाख रुपए है।

भारत के ‘इलेक्ट्रिक मिशन’ को कितनी मदद?

भारत सरकार का लक्ष्य 2030 तक भारत में 30% निजी कारों, 70% वाणिज्यिक वाहनों और 80% दोपहिया वाहनों को इलेक्ट्रिक बनाना है। जाहिर है, इस लक्ष्य को प्राप्त करने के लिए, लिथियम आयन बैटरी के उत्पादन में वृद्धि करना आवश्यक है। भारत। लेकिन केवल लीथियम के भंडार मिलने से यह संभव नहीं होगा। इसके लिए बैटरी मैन्युफैक्चरिंग में लिथियम का इस्तेमाल जरूरी है। इसके लिए भारत को चीन से सीखने की जरूरत है।

लिथियम आयन बैटरी पर चीन का दबदबा है

चीन ने 2030 तक 40 प्रतिशत इलेक्ट्रिक कारों का लक्ष्य रखा है। दुनिया भर में इस्तेमाल होने वाली हर 10 लिथियम बैटरी में से 4 चीन में इस्तेमाल होती हैं। इसके उत्पादन में भी चीन दूसरों से आगे है। चीन दुनिया के कुल लिथियम बैटरी उत्पादन का 77 प्रतिशत हिस्सा है

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *