May 22, 2024

Who is George Soros जॉर्ज बुश को हटाने की जिद पर खर्च किए करोड़ों डॉलर, अब पीएम मोदी को हटाने की जिद

कौन हैं जॉर्ज सोरोस: अमेरिकी अरबपति जॉर्ज सोरोस ने गौतम अडानी को लेकर प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी को घेरने की कोशिश की. एक कार्यक्रम में सोरोस ने कहा कि पीएम मोदी को अडानी पर विदेशी निवेशकों के सवालों का जवाब संसद में देना होगा. ऐसे में यह जानना जरूरी है कि जॉर्ज सोरोस कौन हैं?

कौन हैं जॉर्ज सोरोस: अमेरिकी अरबपति जॉर्ज सोरोस को लेकर भारत में राजनीति शुरू हो गई है. सोरोस ने बिजनेसमैन गौतम अडानी को लेकर प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी पर सवाल उठाए हैं

म्यूनिख सुरक्षा सम्मेलन में जॉर्ज सोरोस ने कहा, ‘मोदी और अडानी करीब हैं। अडानी ने शेयर बाजार में फंड जुटाने की कोशिश की, लेकिन वह असफल रहा। अडानी पर स्टॉक हेरफेर का आरोप है, उनके शेयर ताश के पत्तों की तरह ढह गए। मोदी इस मुद्दे पर चुप हैं, लेकिन उन्हें विदेशी निवेशकों के सवालों का जवाब संसद में देना होगा.

सोरोस ने आगे कहा कि यह संघीय सरकार पर मोदी की पकड़ को कमजोर करेगा और बहुत जरूरी संस्थागत सुधारों को आगे बढ़ाने के लिए दरवाजा खोलेगा। सोरोस ने कहा कि मुझे उम्मीद है कि भारत में लोकतांत्रिक बदलाव होगा.

इस पर केंद्रीय मंत्री स्मृति ईरानी ने पलटवार करते हुए कहा कि विदेशी धरती से भारत के लोकतांत्रिक ढांचे को कमजोर करने की कोशिश की जा रही है. जॉर्ज सोरोस ने भारत के लोकतंत्र में दखल देने की कोशिश की है और प्रधानमंत्री मोदी उनके निशाने पर हैं. ईरानी ने आरोप लगाया कि सोरोस भारतीय लोकतंत्र को नष्ट करना चाहते हैं और चाहते हैं कि उनके ‘चुने हुए लोग’ यहां सरकार चलाएं।

वहीं, कांग्रेस नेता जयराम रमेश ने भी जॉर्ज सोरोस को घेरा है। उन्होंने कहा कि ‘पीएम से अडानी घोटाला’ भारत में लोकतांत्रिक परिवर्तन लाता है या नहीं, यह पूरी तरह से कांग्रेस, विपक्ष और हमारी चुनाव प्रक्रिया पर निर्भर करता है। इसका जॉर्ज सोरोस से कोई लेना-देना नहीं है।

हालाँकि, यह पहली बार नहीं है जब जॉर्ज सोरोस ने भारत के आंतरिक मामलों में हस्तक्षेप करने का प्रयास किया है। जम्मू-कश्मीर से अनुच्छेद 370 हटाने और नागरिकता संशोधन कानून को लेकर सोरोस ने कहा था, प्रधानमंत्री कश्मीर पर प्रतिबंध लगाकर वहां के लोगों को दंडित कर रहे हैं और लाखों मुसलमानों से नागरिकता छीनने की धमकी दे रहे हैं.

इस तरह बात करने वाले जॉर्ज सोरोस कौन होते हैं?

जॉर्ज सोरोस का जन्म 1930 में हंगरी के बुडापेस्ट में हुआ था। उनकी वेबसाइट पर उपलब्ध जानकारी के मुताबिक दूसरे विश्व युद्ध के दौरान जब हंगरी में यहूदी मारे जा रहे थे तो उनके परिवार ने झूठी आईडी बनाकर उनकी जान बचाई थी.विश्व युद्ध की समाप्ति के बाद जब हंगरी में कम्युनिस्ट सरकार बनी तो वे बुडापेस्ट छोड़कर 1947 में लंदन आ गए। यहां उन्होंने एक क्लब में रेलवे कुली से लेकर वेटर तक का काम किया। इस दौरान उन्होंने लंदन स्कूल ऑफ इकोनॉमिक्स से पढ़ाई की।

1956 में वे लंदन से अमेरिका आ गए। यहां आकर उन्होंने वित्त और निवेश की दुनिया में कदम रखा और अपनी तकदीर बदल ली। 1973 में उन्होंने ‘सोरोस फंड मैनेजमेंट’ लॉन्च किया। उनका दावा है कि उनका फंड अमेरिकी इतिहास का सबसे बड़ा और सबसे सफल निवेशक है।

सोरोस ने 1979 से अपनी संपत्ति दान करना शुरू किया। पहली बार उन्होंने रंगभेद का सामना कर रहे अश्वेत अफ्रीकी छात्रों को पढ़ाई के लिए स्कॉलरशिप दी।

सोरोस खुद को जरूरतमंदों की मदद करने वाला बताते हैं। उनकी वेबसाइट पर दावा किया गया है कि सोरोस ने अब तक अपनी निजी संपत्ति से जरूरतमंद लोगों की मदद के लिए 32 अरब डॉलर दिए हैं। वह ओरान सोसाइटी फाउंडेशन चलाते हैं।

जब कहा- बुश को हटाना ‘जिंदगी-मौत का सवाल’

जॉर्ज सोरोस पूर्व अमेरिकी राष्ट्रपति जॉर्ज बुश के सबसे बड़े आलोचक रहे हैं। उन्होंने 2003 में घोषणा की कि उनका उद्देश्य जॉर्ज डब्ल्यू बुश को सत्ता से हटाना था।

11 नवंबर, 2003 को वाशिंगटन पोस्ट को दिए एक इंटरव्यू में सोरोस ने कहा कि जॉर्ज डब्ल्यू बुश को राष्ट्रपति पद से हटाना उनके जीवन का सबसे बड़ा उद्देश्य है और यह उनके लिए ‘जिंदगी और मौत का सवाल’ है। सोरोस ने कहा था कि अगर कोई उन्हें सत्ता से बेदखल करने की गारंटी लेता है तो वह अपनी पूरी दौलत उस पर खर्च कर देंगे.

रिपोर्ट के अनुसार, सोरोस ने अमेरिकन प्रोग्रेस को 3 मिलियन डॉलर, MoveOn.org को 2.5 मिलियन डॉलर और अमेरिका कमिंग टूगेदर को 20 मिलियन डॉलर दिए। ये संगठन 2004 के अमेरिकी चुनावों में डेमोक्रेट्स का समर्थन करने के लिए काम कर रहे थे।

सितंबर 2004 में, सोरोस ने डेमोक्रेट्स के समर्थन में और पैसे लुटाए। उन्होंने एक भाषण भी दिया था, जिसमें उन्होंने बताया था कि ‘हमें बुश को दोबारा क्यों नहीं चुनना चाहिए?’

इतना ही नहीं सोरोस अमेरिका के कट्टर आलोचक भी रहे हैं। 9/11 के हमले के बाद जब अमेरिका ने आतंकवाद के खिलाफ युद्ध शुरू किया तो सोरोस ने भी इसकी आलोचना की। सोरोस ने एक इंटरव्यू में कहा, ‘अमेरिका दुनिया के लिए एजेंडा तय करता है और वह चाहता है कि दुनिया उसके मुताबिक चले। जब आपने 11 सितंबर के बाद आतंकवाद के खिलाफ युद्ध की घोषणा की, तो आपने गलत एजेंडा सेट किया क्योंकि जब आप युद्ध छेड़ते हैं, तो आप निर्दोषों को अपना शिकार बनाते हैं।

2017 में सोरोस ने तत्कालीन अमेरिकी राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रंप को ‘ठग’ कहा था। सोरोस ने कहा कि उनका मानना है कि ट्रम्प व्यापार युद्ध शुरू करने की तैयारी कर रहे थे और वित्तीय बाजारों के खराब प्रदर्शन की उम्मीद थी।

सोरोस के पास कितनी संपत्ति है?

फोर्ब्स के अनुसार, इस समय जॉर्ज सोरोस की कुल संपत्ति 6.7 बिलियन डॉलर है। भारतीय करंसी के हिसाब से यह 55 हजार करोड़ रुपए से ज्यादा बैठता है।

हालांकि सोरोस की दौलत पहले के मुकाबले काफी कम हो गई है। इसका कारण यह हो सकता है कि उन्होंने अपनी निजी संपत्ति का बड़ा हिस्सा दान में दिया हो। एक समय उनकी नेटवर्थ 25 अरब डॉलर से भी ज्यादा थी।

जॉर्ज सोरोस डेमोक्रेटिक पार्टी के समर्थक माने जाते हैं। फोर्ब्स के अनुसार, सोरोस डेमोक्रेटिक पार्टी के सबसे बड़े दानदाताओं में से एक हैं। 2022 के मध्यावधि चुनाव के दौरान, सोरोस ने सुपर पीएसी को $125 मिलियन का दान दिया। सुपर पीएसी अमेरिका की एक कमेटी है जो चुनावी चंदा लेती है।

निजी जीवन कैसा है?

  • जॉर्ज सोरोस ने तीन शादियां की हैं। 1960 में, उन्होंने एनालिस विस्चेक से शादी की। एनेलिसिस एक जर्मन अप्रवासी थी जो प्रथम विश्व युद्ध के दौरान अनाथ हो गई थी। सोरोस और एनेलिस के तीन बच्चे हैं। हालांकि ये शादी ज्यादा दिन नहीं चली और इनका तलाक हो गया।

एनालिस से तलाक के बाद जॉर्ज सोरोस ने 1983 में सुसान वेबर से शादी की। उनसे उनके दो बच्चे हुए। सोरोस और सुसान का 2005 में तलाक हो गया।

2008 में सोरोस की मुलाकात टैमिको बोल्टन से हुई। दोनों ने अगस्त 2012 में शादी की थी। टैमिको जापानी-अमेरिकी हैं। उनकी परवरिश कैलिफोर्निया में ही हुई है।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *