May 22, 2024

डॉ होमी जहांगीर कौन थे परमाणु बम बनाने के करीब पहुंचे वैज्ञानिक भाभा, विमान दुर्घटना में हुई मौत या अमेरिकी साजिश

24 जनवरी, 1966 को भारत के परमाणु कार्यक्रम के जनक कहे जाने वाले डॉ. होमी जहांगीर भाभा की विमान दुर्घटना में मृत्यु हो गई थी।

होमी भाभा का निधन ऐसे समय हुआ जब उन्होंने तीन महीने पहले एक इंटरव्यू में कहा था कि अगर हरी झंडी मिल जाए तो भारत 18 महीने के भीतर परमाणु बम बना लेगा

हादसे से पहले होमी भाभा एयर इंडिया की फ्लाइट 101 में सवार होकर मुंबई से न्यूयॉर्क जा रहे थे। सफर के दौरान फ्लाइट यूरोप के सबसे ऊंचे पहाड़ मोंट ब्लांक से टकरा गई। हादसे में होमी भाभा सहित सभी 117 लोगों की मौत हो गई।

इस घटना के बाद विमान दुर्घटना का कारण विमान के पायलटों और जिनेवा हवाई अड्डे के बीच गलत संचार बताया गया था। हालांकि इस विमान हादसे में होमी भाभा की मौत को लेकर कई ऐसे खुलासे और दावे किए गए, जिसने पूरे देश को झकझोर कर रख दिया.

साल 2008 में प्रकाशित एक किताब में इस क्रैश को अमेरिका की खुफिया एजेंसी सीआईए की साजिश बताया गया था। हालांकि, यह कभी साबित नहीं हो सका, लेकिन इन आरोपों के बाद होमी भाभा की मौत का राज गहराता गया।

क्या विमान हादसे की साजिश में शामिल था अमेरिका ?

होमी भाभा की मौत के पीछे अमेरिका की खुफिया एजेंसी सीआईए का हाथ होने की चर्चा पहले भी हो चुकी है। यहां तक कहा गया कि सीआईए ने भाभा की मौत की साजिश रची क्योंकि अमेरिका नहीं चाहता था कि परमाणु शक्ति भारत के पास आए।

दरअसल, साल 2008 में विदेशी पत्रकार ग्रेगरी डगलस की एक किताब ‘कन्वर्सेशन विद द क्रो’ में डगलस और सीआईए के एक अधिकारी रॉबर्ट क्राउली के बीच हुई बातचीत का अंश डाला गया था। इसमें डगलस ने भारतीय वैज्ञानिक होमी भाभा की मौत के पीछे अमेरिकी खुफिया एजेंसी सीआईए की साजिश का दावा किया था।

इसके पीछे यह थ्योरी दी गई कि अमेरिका को भारत जैसे देशों की चिंता है। क्योंकि ऐसे देश हथियारों के साथ-साथ परमाणु शक्ति हासिल करने की पूरी कोशिश कर रहे थे। सन् 1945 तक केवल अमेरिका के पास परमाणु शक्ति थी। हालांकि अमेरिका का साम्राज्य ज्यादा दिन नहीं चल सका और साल 1964 तक सोवियत संघ और चीन परमाणु परीक्षण भी कर चुके थे।

किताब के मुताबिक, साल 1965 में जब भारत ने पाकिस्तान से युद्ध जीता तो अमेरिका बेचैन हो गया। युद्ध जीतने के बाद भारत तेजी से परमाणु शक्ति की ओर बढ़ने लगा, जिसे देखकर अमेरिका की चिंता और बढ़ गई थी। किताब में रॉबर्ट क्राउली, जो सीआईए अधिकारी थे, ने भाभा की विमान दुर्घटना के पीछे की साजिश को स्वीकार किया है।

2017 में एक पर्वतारोही ने एक नया खुलासा किया

होमी भाभा की मौत से करीब 16 साल पहले साल 1950 में एयर इंडिया का एक विमान मोंट ब्लांक पर दुर्घटनाग्रस्त हो गया था। उस हादसे में 48 लोगों की मौत हो गई थी।

साल 2017 में डेनियल रोशे नाम के एक पर्वतारोही ने दावा किया था कि उसे क्रैश साइट के पास विमान के कुछ अवशेष मिले हैं। हालांकि, यह स्पष्ट नहीं था कि जो टुकड़े मिले हैं वे 1950 के विमान हादसे के हैं या 1966 के उस विमान हादसे के जिसमें होमी भाभा भी सवार थे।

वहीं, रोश को दूसरे विमान का इंजन भी मिला। इन सब बातों को देखकर रोशे को विश्वास हो गया कि जिस विमान में होमी भाभा यात्रा कर रहे थे, वह दुर्घटना के समय किसी अन्य विमान से टकरा गया था। रोशे का कहना है कि अगर प्लेन नंबर 101 सीधे पहाड़ों में क्रैश होता तो बड़ा धमाका होना चाहिए था, क्योंकि उस वक्त प्लेन में करीब 41 हजार टन तेल था।

रोशे ने आगे कहा कि उनका मानना है कि यह विमान किसी इतालवी विमान से टकराया होगा। लेकिन इतनी ऊंचाई पर ऑक्सीजन इतनी कम होती कि टक्कर के बाद विस्फोट होने की संभावना ही नहीं रहती।

होमी भाभा के बारे में रोचे ने कहा, “वह नहीं जानते कि यह एक दुर्घटना थी या साजिश और भाभा भारत को पहला परमाणु बम देने वाले थे … मुझे लगता है कि दुनिया को सच्चाई के आधार पर बताना मेरा कर्तव्य है सबूत के।” . अगर भारत सरकार चाहे तो मैं उन्हें ये दस्तावेज और क्रैश के दौरान यात्रियों का गिरा हुआ सामान देने को तैयार हूं.

होमी भाभा परमाणु शक्ति से भारत को आगे ले जाना चाहते थे
भारत में परमाणु के जनक के रूप में जाने जाने वाले होमी भाभा एक प्रसिद्ध परमाणु भौतिक विज्ञानी थे। उन्होंने कैंब्रिज में पढ़ाई की, जहां उन्हें अपने काम के लिए अंतरराष्ट्रीय स्तर पर पहचान मिली। भाभा ने कैवेंडिश लाइब्रेरी में भी काम किया है, जहां कई बड़ी खोजें की गई हैं।

जब द्वितीय विश्वयुद्ध चल रहा था तब होमी जहांगीर भाभा भारत आए थे। उन्हें भारत से इतना लगाव था कि उन्होंने यहीं रहने का मन बना लिया। भारत में होमी भाभा ने भारतीय विज्ञान संस्थान में सीवी रमन की प्रयोगशाला में काम करना शुरू किया। जिसके बाद वे मुंबई में Tata Institute of Fundamental Research के संस्थापक और निदेशक बने।

भाभा का मानना था कि अगर भारत को वैश्विक शक्ति के रूप में आगे बढ़ना है तो उसे अपनी परमाणु क्षमताओं का विकास करना होगा, और परमाणु बम भी विकसित करना होगा। होमी भाभा ने अपने घनिष्ठ मित्र और भारत के पूर्व प्रधानमंत्री जवाहरलाल नेहरू से कहा था कि विज्ञान ही प्रगति का मार्ग है।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *